MAN MEIN BASANT

अम्बुआ की डाली पर
बैठी कोयल गा रही मल्हार ,
सुना रही हमे गीत लिए प्यार की पुकार ,
चहू और है बसंत का मौसम मनमोहक
है सारा जहां …
दखे इसे मन नाच उठा जैसे,
पायल की झंकार …
सुगंध फैली है जैसे की कस्तूरी मृग
का सुवास,
दूँ ढ रहा जैसे वन उपवन में
लिए अपने भीतर
ही जिसका वास …
रंग बिरंगे फूलों से सजा है ,
यह सारा निरIंकार ,
मानो धरती कर रही हो जैसे
कोई अमृत संचार …
About these ads

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s