होली

नीले  अम्बर  में इन्द्रधनुष जैसा है समा, अबीर, गुलाल से झूमे धरती, रंगीन हुआ आसमान ! आज ब्रज में भी होगा जश्न यूँ रंग भरा सात रंगों में  चमकेगा सूरज चाँद मुस्कुराए देख् कर यह जहाँ ! गोकुल की गोपिया ना जाने कितने दिनो से राह् तके इस दिन का, जब हाथ में आए नंद्किशोर, फैले चहूँऔर केसरिया धुआँ ! रंग में रंग के सावरे के, सफल कर ले अपना जन्म यहाँ! (PHOTOCREDIT:hariharji.blogspot.com) KRISHNA_VRAJA_by_VISHNU108

Advertisements

श्रद्धा

अगर लगे अंधकारमय है पथ जीवन का,
दूर तक ना हो रोशनी का कोई निशान ,
डर ना नहीं बस चलते रहना ऐ ! इंसान
एक किरण  भी ले जायेगी तुम्हे तारों के पार।

मन में रख तू विश्वास बनाये
गिर कर भी तू संभलना जाने
फिर काहे का डर सताए
इस पथ तो है वीरों के साए ..

सच्चाई की इस डगर पर
लाखों ने  अपने शीश झुकाए,
अपने मंजिल की ओर बढा  कर कदम
चलते जा तू यूँ ही निरंतर …
दिखेगा लक्ष्य तुझे
अगर रहे नज़र
अटल निश्चल !

अनदेखी सी शक्ति होगी ,तेरे  हर कदम  के तले ,
जो उठा लेगी हाथों में ,अगर कहीं कांटे मिले,
रख कर यह श्रद्धा का दीपक, हाथ में तू चला अगर ,
दूर नहीं कोई भी मंजिल, पहुंचेगा तू , सितारों के परे …

शिवरात्री

रात्रि की पावन बेला में
 वातारण यह गूंज उठा,
गीत स्वयंवर शिव पार्वती  के
गाये नीला  अम्बर संग धरा .

शंख नाद से गूंजे धरती,
स्वर्ग में जयजयकार हुई ,
समस्त देवी देवताओं के,
उपस्थिति से आशीर्वाद की
बौछार हुई..

त्रिशूल धारी,त्रिनेत्र ,
 त्रिपुंड
लगाये बैठे थे,
ध्यान मग्न में विश्व समाये.
भस्म लगाये रहते थे.
आज काल की रात्रि में,
चल कर बने है
वर ऐसे निशांत अलग…

हिमालय पुत्री की तपस्या,
हो गयी सफल,,
द्वार खड़े तीनों लोकों के
इश्वर,
 हो गया  आत्म विभोर मन
पार्वती संग ब्याही शिव के,
चली कैलाश पर वह
पार्वती पतेय हर हर महादेव
गाने लगे हर मनुष्य एवम  देवतागण !

(PHOTOCREDIT:hariharji.blogspot.com )

free-download-shiva-parvati-wallpapers9

सपना

कहते  हैं अम्बर में रहते  हैं कई सपने सुहाने ,
चमकते हैं वो रात के अंधियारों को चीरकर ,
मस्त हवा के झोंके भी करा जाते हैं उनका  आभास,
उन सभी कल्पना प्रेमियों को.

जो पलता है  मन में एक कोमल कली सा,
जैसे कोई गुलाब ,.
धरा से  जकड़े है वो अपने जड़ो को ,
वातावरण में झूलती अपनी  पत्तियों से ,
छूना चाहे वो आसमान को,
बढते बढते  यूँ
कई फूल खिला  जाए अपनी राह  वो.

 हँसता  उन्मुक्त सा एक सपना जो
फैला दे खुशबु अपने  प्यार की
बिखरा के ख़ुशी इस धरती पर,
 अम्बर की ओर उड़ चला वो .

 

(PHOTOCREDIT:viktorialove.com)

images