वह सोचते हैं

गम उन्हीं की कश्ती का हमसफर है

कौन समझाए हमने तो

जुबान पर मुसकुराहट पहनी है

गर बयान करे हाल ए दिल

तो तुफान आजाए

कश्ती हमारी तो पहले से

मझधार में फँसी है.

©soumya

&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s