“जोगी दे नाल “- एक नया सुरीला सफर

आज आप सभी को  एक खुशखबरी देनी है . मेरी नई कंपनी औदुम्बर आर्ट्स का पहला गाना आज Zee म्यूजिक के YOUTUBE Channel पर release  हुआ.
कृपया इसे देखे और पसंद हो तो शेयर करे .

पंजाबी में लिखा हुआ “जोगी दे नाल ” यह एक सूफी गाना है  , जिसकी धुन आधुनिक संगीत की तर्ज़ पर बनायीं गयी है।

सूफी संगीत ने अरसों से अलग अलग भाव एवं अंदाज़ देखे और अपनाए है। रॉक हो या पॉप,फ्यूज़न हो या फिर क़व्वाली ,इसको जिस अंदाज़ में पेश किया , सूफी गीतों ने अपनी एक अमिट छाप छोड़ी है।

यह गीत बॉलीवुड के गीतकार अलोक रंजन झा ने अपनी जादुई कलम से लिखा है , जिनकी हाल ही मैं फिल्म “शोरगुल” में भी गीत “बारूदी हवा ” काफी मशहूर हुआ। यह अभी “जय भीम ” गाने के लिए भी पुरस्कृत हुए हैं।

गाने की धुन विवियन वैद्य ने बनायीं है ,जो कई सालों तक देश की नौसेना के लिए काम कर चुके हैं। इन्हे आठ वाद्यों में महारथ हासिल है और इनका अपना रॉक बैंड “फ्यूज़न ट्रिक्स”गोवा में काफी प्रसिद्ध है।

जोगी दे नाल में आवाज़ कौशिक कश्यप की है, जो की असमिया फिल्मों में गान गए चुके है और काफी शोज भी कर चुके हैं। यह अभी तक अली खली मिर्ज़ा  जो की बिग बॉस के प्रतिभागी रह चुके हैं, उनके साथ काम करते थे।

जोगी दे नाल का गीत विशेष रूप से युवा वर्ग को मन्दे नज़र रखते हुए किया गया है।इस गीत में कई वाद्यों का प्रयोग किया है ,  इस की ताल और तर्ज़ आधुनिक संगीत  पर  आधारित है और इसमें उपयोग हुए गिटार एवं सैक्सोफोन में  डेविड सिंचुरी और आय डी राव ने अपना कमाल दिखाया है, जो की ऍम टी वी इंडीज और ऍम टी वी कोक स्टूडियो में प्लेयर्स है।

Advertisements

सोच

बेवजह ही धड़कते है अरमान
बेवजह ही हम मुस्कुरा  जाते

जब भी आता है होंठों पर नाम तेरा

जाने क्या सोच कर हम  इतराते
तुम इस बात से अनजान
कोसों दूर् …
उस धुंद की चादर तले

अपने चाय के प्याले को निहारते
जिसके किनारे पर आज भी

है मौजूद

चंद निशान हमारे

Aasman ke pankh…

Kabhi yun hi hum khade they..

un raahon par inteezar karte,

mann mein kuch sapne,kuch umeedein liye hue,

ek aandhi aayi ,toofan liye,

samet kar le jaane waqt ke diye…

Humne bhi dil ko sambhala ,

badi khamoshi se,

pankh pasaar kar,

ud chale ,

aasman ke oor,

parchaiinyan ban kar…