मोती

बिखरे हैं कई मोती निकल कर सीप से

सागर के किनारे , लहरों में पड़े

कुछ चुनिंदा मोती, मैं चुन लूँ
बनाकर माला उन्हें पिरों लूँ।
रह जाएंगे यूँ वह दिल के करीब
निखर जाएगी जुस्तजू
सुनकर उनका बयां
 कितने अनमोल ,खुशनसीब
है वह जिन्होंने लिखी
मोहब्बत की दास्तां .
Advertisements

गुलिस्तान

ना पनपने देना मन में ईर्ष्या

ना द्वेष किसी से करना

 इससे कुछ नहीं  है हासिल
बस एक दिन मिट्टी में है मिलना …

क्या जाने किस घड़ी
हो ऐसा इम्तिहान
दुनिया की हो हर चीज़ बगल में
रुखा  हो घर,संसार …

छोड़ गृणा  की छोटी बातें
खोल दे मन के द्वार अभी से
जिसमे सारा जहां समाये
बना ऐसा गुलिस्तान दिल से.